Author Archives: indra

ईशोपनिषद् और उसका महत्व

ईशोपनिषद् और उसका महत्वईशोपनिषद शुक्ल यजुर्वेद का अंश है, जिसे’ईशावास्योपनिषद’भी कहा जाता है। उपनिषदों में इसे प्रथम स्थान प्राप्त है। शंकराचार्य ने भी इस उपनिषद की विशेष प्रशंसा की है अपने भाष्य में। इसे वेदांत का निचोड़ मानने में शायद … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

२०१९-२०२०:भगवद्गीता से उपनिषदों की ओर

२०१९-२०२०:भगवद्गीता से उपनिषदों की ओरपिछले साल में अपने को गीता के विभिन्न व्याख्या पुस्तकों में अधिकांश समय लगाया था। २०२० में विशेषकर कोविद काल की त्रासदी को भोगते कब उपनिषदों की तरफ़ झुकाव हुआ और फिर बढ़ता गया पता ही … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Ishopanishad and Mahatma Gandhi

I may have different views about many things about Mahatma Gandhi over the years of my life though I came in this world when Mahatma Gandhi was almost taken up as the saviour of India freeing it from 200 years … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

वेदान्त, उपनिषद् एक परिचय

वेदान्त, उपनिषद् एक परिचयहमारे चार वेद-ऋक्, साम, अथर्व, एवं यूज़र् आदि है। वेदान्त वेदों के ही भाग हैं। वेदान्त’ का शाब्दिक अर्थ है – ‘वेदों का अंत’ (अथवा सार)। वेदान्त को तीन मुख्य ग्रंथों के द्वारा जाना जाता हैं: वे … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

उपनिषद् , विद्या, आधुनिक धर्मनिरपेक्ष शिक्षा का बहाना

भारत के क्रमबद्ध ज्ञान सृजन की कहानी वेदों से शुरू हुई….अर्जन में उसके पहले के लोगों से चली आती ज्ञान परम्परा का भी ख़्याल रखा ही होगा ऋषियों ने और शायद इसीलिये स्रजनकर्ताओं ने अपने नाम का कहीं ज़िक्र नहीं … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Totapuri and Sri Ramakrishna- Two Great Enlightened Sadhaks

By about the end of 1865, Sri Ramakrishna was twenty-nine years old. He had finished his ten years-long sādhanās based on the path of bhakti (devotion) in which the devotee looks upon God as a Person. He had been blessed … Continue reading

Posted in Uncategorized | 1 Comment

आज के परिप्रेक्ष्य में तुलसीदास और उनके राम

आज के परिप्रेक्ष्य में तुलसीदास उनके रामनानापुराणनिगमागम के ज्ञानी तुलसीदास(१४९७-१६२३) ने अपने इष्टदेव की तरह श्री राम को ही क्यों चुना? उनके समय में एवं पहले से ही भक्त कवियों में कृष्ण छा चुके थे जयदेव (१२०० ई.), सूरदास(१६४८-१५८४), मीरा(१४९८–१५४६) … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

सामयिक अध्यात्म

भारत हर दिन 11.72 लाख COVID-19 टेस्ट कर रहा है…..यह अपने आप में एक मिसाल है कि चाह होने पर भारत के लिये सब संभव है….इस लिये देश के हर व्यक्ति को समस्याओं से लड़ने की इच्छाशक्ति होनी ज़रूरी है….इसे … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

सत्यकाम की कहानी

छान्दोग्योपनिषद् सामवेद के छान्दोग्य ब्राह्मण में है अध्याय ४ के चौथे खंड से आरम्भ होती है सत्यकाम की कहानी और इसके रचना का समय आठवीं से छठवीं ई.पू.का माना जाता है। हम आज जब उस समय की एक कथा कहते … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

कठोपनिषद् की कहानी

कठोपनिषद् की कहानी: कठोपनिषद् उन दस प्रमुख उपनिषदों में से एक है, जिन पर शंकराचार्य ने अपना भाष्य लिखा था। यह मृत्यु के देवता यमराज के साथ एक पिता और उनके इकलौते पुत्र नचिकेता के संवाद की एक अनूठी कहानी … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment