Author Archives: indra

Present Crisis of Auto Sector

Will the government be able to pursue GST Council to agree for a cut in the rate of GST for auto sector from 28% to 18% as demanded by the auto manufacturers of the country? If not, what will be … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

भगवद्गीता:हिन्दूओं से एक आग्रह:जाति प्रथा को छोड़ें।

हम सब यह स्वीकार करते हैं कि हमारा धर्म हिन्दू है. हमारा धर्म एवं जीवन भारत के अति प्राचीन काल के मनीषियों द्वारा रचित वेद, उपनिषद्,महाभारत, भगवद् गीता, रामायण आदि धर्मग्रथों की शिक्षाओं पर आधारित है. उसी आधार पर मेरा … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

शंकराचार्य का जाति भेद का ज्ञान अर्जन

किस ज़माने में रह रहें है हम…हम सब क्या शंकराचार्य से भी ऊपर हैं या उन्हीं द्वारा प्रतिपादित हिन्दू होते हुये भी उनकी सीख से सीख नहीं लेना चाहते….पढ़िये शंकराचार्य का जाति भेद का ज्ञान अर्जन अपने वराणसी के प्रवासकाल … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Lessons from ISRO

ISRO could develop the high tech cryogenic engines for its launches such as Chandrayaan-2 against the international blocking of transfer of technology because of its nuclear test in 1974. Over 25-30 years ago, Isro was desperate to develop the cryogenic … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

भगवद् गीता- जीवन की शान्ति एवं सुख कैसे मिले?

गीता कामनाहीन बनने की सीख देती है, पर साथ ही हर आम व्यक्ति एक शान्तिपूर्ण सुखमय जीवन की कामना भी रखता है. भगवद् गीता के अध्याय २ में स्थितप्रज्ञ के लक्षण बताते हुये यह प्रकरण आता है और शान्ति एवं … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Let Bhagawad Gita Lead us to light

“I find a solace in the Bhagawad Gita….When disappointment stares me in the face and all alone,I see not one ray of light, I go back to the Bhagawad Gita.”- Mahatma Gandhi “The Gita is a bouquet composed of the … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

ज्ञान का लक्ष्य -एक सुदृढ़ समाज

हमारे यहाँ राजनेता हिन्दू धर्म को मनुवादी बताते हुये दलितों को धार्मिक ज्ञान से दूर रहने की सलाह देते हैं. आज सबेरे के स्वाध्याय में निम्न श्लोक पढ़ा,जो मनु के अनुसार चारों वर्णों- ब्राह्मण, क्षत्रिय,वैश्य, शूद्र- का धर्म कहा गया … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment