Category Archives: Uncategorized

शंकराचार्य का जाति भेद का ज्ञान अर्जन

किस ज़माने में रह रहें है हम…हम सब क्या शंकराचार्य से भी ऊपर हैं या उन्हीं द्वारा प्रतिपादित हिन्दू होते हुये भी उनकी सीख से सीख नहीं लेना चाहते….पढ़िये शंकराचार्य का जाति भेद का ज्ञान अर्जन अपने वराणसी के प्रवासकाल … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Lessons from ISRO

ISRO could develop the high tech cryogenic engines for its launches such as Chandrayaan-2 against the international blocking of transfer of technology because of its nuclear test in 1974. Over 25-30 years ago, Isro was desperate to develop the cryogenic … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

भगवद् गीता- जीवन की शान्ति एवं सुख कैसे मिले?

गीता कामनाहीन बनने की सीख देती है, पर साथ ही हर आम व्यक्ति एक शान्तिपूर्ण सुखमय जीवन की कामना भी रखता है. भगवद् गीता के अध्याय २ में स्थितप्रज्ञ के लक्षण बताते हुये यह प्रकरण आता है और शान्ति एवं … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Let Bhagawad Gita Lead us to light

“I find a solace in the Bhagawad Gita….When disappointment stares me in the face and all alone,I see not one ray of light, I go back to the Bhagawad Gita.”- Mahatma Gandhi “The Gita is a bouquet composed of the … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

ज्ञान का लक्ष्य -एक सुदृढ़ समाज

हमारे यहाँ राजनेता हिन्दू धर्म को मनुवादी बताते हुये दलितों को धार्मिक ज्ञान से दूर रहने की सलाह देते हैं. आज सबेरे के स्वाध्याय में निम्न श्लोक पढ़ा,जो मनु के अनुसार चारों वर्णों- ब्राह्मण, क्षत्रिय,वैश्य, शूद्र- का धर्म कहा गया … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

अबोध बच्चे एवं हमारी ज़िम्मेदारी

भगवद् गीता में कृष्ण ने ‘सर्वकर्मफलत्याग’(समस्त कर्मों के फल का त्याग) को ही उपासना,अभ्यास,ज्ञान,ध्यान से भी उत्तम रास्ता बताया है भगवत् प्राप्ति का.इस ८० के नज़दीक के उम्र में हम क्या कुछ अच्छा कर्म करें-जो हम कर सकें एवं मन … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

भगवद् गीता एवं जातिवाद

जातिवाद हिन्दुस्तान एवं हिन्दू धर्मियों के लिये अभिशाप है और भारत की सम्भावित उन्नति का सबसे बड़ा बाधक है. यह एक ख़ास वर्ण की इतिहासिक साज़िश द्वारा बनाया संक्रामक जानलेवा ब्याधि है, हिन्दूओं के कुरीतियों में सबसे ख़तरनाक है, और … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment