Category Archives: Uncategorized

Make in India -Potential of India as Defence Manufacturing Power

India with consistent focus can easily become a Defence Manufacturing Power: (Part1) Make-in-India could have pushed the country on the track by now. However, the built-in delaying features of bureaucratic rules along with the status-quo mindsets of the people who … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

बिचारों के जंगल में-४

25.8.2017 कैसे ये गुरू देश के करोड़ों पुरूषों महिलाओं को बेवक़ूफ़ बना अपने राजसुख का उपभोग करते हैं? जीवन के चार लक्ष्यों -धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष में दो – काम और अर्थ का ख़ुद सम्पूर्ण फ़ायदा उठाते हैं और बेवक़ूफ़, … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

बिचारों के जंगल में-३

27.7.2017 नीतिश फिर से राजा बन गये उन्हीं का साथ ले जिन्हें वे अकारण छोड़ गये थे क्योंकि राजनीति में कोई लड़ाई ब्यक्ति बिशेष से तो होनी ही नहीं चाहिये अगर वह परिवार या जाति राज न चलाता हो. उस … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

बिचारों के जंगल में-२

२७.६.२०१७ मेरे बिचार से श्रीमती मीरा कुमार को राम नाथ कोविन्द के बिरूद्ध राष्ट्रपति पद के चुनाव से हट जाना चाहिये, जब कि बिहार के मुख्य मंत्री तक उनके साथ नहीं हैं. केवल सोनिया गांधी के दबाव में उनकी प्रतिद्वंदिता … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Make in India: Some New Developments

Make-in-India & Nuclear Plants Why did India sleep on its own nuclear programme so long? India could have focused on R&D, continuous improvements, manufacturing and setting up of nuclear power plants of its own design in all these years as … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

बिचारों के जंगल में-१

ज़माने भर का मुझे क्या करना जब अपने से ही फ़ुरसत नहीं २ एक हैं अरविन्द केजरीवाल एक राज्य की जीत ने जिन्हें सपने देखना सीखा दिया, सब विद्याओं में महारत दे दी, दिल्ली की गद्दी ने बहुत सारे दोस्तों … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

पिछले दिनों की बिचार यात्रा 

१ 19.3.2017 कैसे ख़त्म होंगी हिन्दूओं में जाति प्रथा ? कैसे समझ पायेंगे साधारण रूढ़िवादी गाँव शहर के लोग जिन्हें जातियों एवं छूआछूत के भ्रम में रख न शिक्षित होने दिया गया, न सम्मानित , न समृद्ध कुछ धर्म के … Continue reading

Image | Posted on by | Leave a comment