Author Archives: indra

कैसा हो कैसे एक सच्चे भारतीय नागरिक का चरित्र

मेरा सरकार के प्रधान मंत्री एवं शिक्षा मंत्री से एक ज़रूरी जिज्ञासा है। क्या हम एक पुरानी एवं प्रसिद्ध सभ्यता की संतान, उपनिषदों के शिष्यों के लिये बतायें इन में नीचे दिये गये आवश्यक गुणों को, जो आज की शिक्षा … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

कैसा हो एक सच्चे भारतीय नागरिक का चरित्र और कैसे

मेरा सरकार के प्रधान मंत्री एवं शिक्षा मंत्री से एक ज़रूरी जिज्ञासा है। क्या हम एक पुरानी एवं प्रसिद्ध सभ्यता की संतान, उपनिषदों के शिष्यों के लिये बतायें इन में नीचे दिये गये आवश्यक गुणों को, जो आज की शिक्षा … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

प्रकृति की एक पुकार मेरे कुछ घंटे से बरसने से,अस्त व्यस्त हो जातातुम्हारा जीवनतुम मुझको कभी,कभी सरकार को कोसते होपर उसमें तुम्हारी तरह ही हैंजानते केवल चुनाव शब्दयही है काम उनका,कुछ भी कर सकतेहैं उसके तो लिये।न नालियाँ बनायेंगे,न उनकी … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

My Project and Resolution to complete in 2022 I got a taste for the Ramcharitamanas and some of the popular Slokas of Bhagavad Gita in my early school days, when my grandfather would reinforce his advice by quoting some Sanskrit … Continue reading

Posted in Uncategorized | Tagged | Leave a comment

आइये कुछ नई तरह से इतिहास एवं आज को समझे- कुछ सोच, कुछ विचार

आइये कुछ नई तरह से इतिहास एवं आज को समझे- कुछ सोच, कुछ विचार मेरे ब्रह्म मुहूर्त के अध्ययन मनन से कुछ नई सोच निकलती रहती है। ऋषि परशुराम को भी दशावतारों में एक माना जाता है। शायद वे सतयुग … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Akbar- The Great and his Greatness?

Akbar- The Great and his Greatness?Yesterday I was reading the introduction of a book the English translation of an Indian scholar – Madhusudan Sarswati’s commentary of ‘The Bhagavad-Gita with the Annotation ‘Gudhartha Dipika’. It was translated by well-known Swami Gambhirananda. … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

महाभारत के बाहर की दो महत्वपूर्ण

महाभारत के बाहर की दो महत्वपूर्ण गीतापिछले तीन-चार महीनों में मैंने ‘अष्टावक्र गीता’ एवं ‘अवधूत गीता’ पढ़ी।दोनों अद्वैत दर्शन के महत्वपूर्ण ग्रंथ माने जाते हैं। अष्टावक्र गीता में २० अध्याय हैं, पहले १८ अध्यायों में अष्टावक्र का उपदेश या विचार … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

तुलसीदास का रामचरितमानस एवं उपनिषद्, भगवद्गीता कुछ दिनों से मैंने, अपना एक साहित्यिक दुख, जो अपनी मातृ भाषा हिन्दी या आंचलिक भाषाओं के बारे में है, बहुत हिन्दी के पंडितों, मित्रों से साझा किया है।क्यों हमारे हिन्दू धर्म के मूल … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

A Real Great News- India Moving in Big Leauge

A Real Great News: Will it materialise with total R&D support to remain the most efficient? Billionaire Mukesh Ambani on Thursday announced in its annual General meeting, ‘a Rs 75,000 crore investment in setting up four ‘Giga’ factories to make … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

कितनी गीता

कितनी गीतापिछले लेख (https://drishtikona.com/2021/06/05/हमारे-पुराने-ग्रंथों-में/) को मैंने यह कहते हुए समाप्त किया था, ‘महाभारत की अन्य गीताओं के बारे में अभी और नहीं जानता। पर महाभारत के पात्रों को ले अन्य अध्यात्म के ग्रंथों में ज़रूर और बहुत गीता हैं।अगली किस्त … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment