Author Archives: indra

उपनिषद – आज भी उपयोगी

उपनिषदों की सार्थकता: बृहदारण्यकोपनिषद् में अध्याय ५ के दूसरे ब्राह्मण में एक छोटी कहानी है. तीन शब्दों में हर प्रकृति के व्यक्तियों के लिये आदर्श आचरण का ज्ञान भरा, जो आज भी सार्थक लगता है. प्रजापति के तीन – देव, … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

हिन्दुओं में धर्म से बढ़ती दूरी

हिन्दुओं में धर्म से बढ़ती दूरीपता नहीं क्यों लगता है कि अपने को शिक्षित माननेवाले लोगों में एक होड़ मची है अभिजात वर्ग का कहाने की, नास्तिक बनकर, पुरानी सब मान्यताओं को बिना कारण समझे,गंवारपन या पुरानपंथी होने की संज्ञा … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

कोरोना अनुभव

१ कोविद-१९ की ज़रूरत-कुछ अनुभव, कुछ जरूरातसोनिया गांधी, और अन्य सभी विरोधी राजनीतिक दल के लोगों और कार्यकर्ताओं, देश के सारे NGOs, समाजसेवी संस्थाओं, सभी व्यवसाय मालिकों से कुछ निवेदन हैं देशहित यह कदम उठाने का, कोविद-१९ के पहले के … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

कोरोना-१९, प्रवासी समस्या- राज्य ज़िम्मेदारी ले

रोज सबेरे यहाँ एक निर्माणाधीन मेट्रो के लोगों के रहने के लिये बनती बहुमंज़िली इमारत के सैकड़ों मज़दूरों को देखता था….ट्रैक्टरों पर आते नोयडा के किसी झुग्गी वस्ती से…पर आज के कोरोना के दूरी बनाये रखने की आवश्यकता को ये … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

विस्थापित-प्रवासी मज़दूरों की समस्या- समाधान

कुछ प्रदेशों की अर्थव्यवस्था स्वतंत्रता के कुछ सालों बाद राजनीतिक अव्यवस्था एवं नेतृत्व की कमजोरी के कारणों से लगातार गिरती रही है. दुर्भाग्यवश, तीन प्रदेश- बिहार जहां मैं पैदा हुआ, उत्तरप्रदेश जहां रह रहा हूँ एवं पश्चिम बंगाल जहां मेरी … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

नैतिक पतन से गुजरता भारत

आज की अवस्था में अच्छों अच्छों के भी आर्थिक तकलीफ़ का एक मुख्य कारण है अमरीकी तौर तरीक़े की आंख बन्द कर नक़ल करना, कमाये पैसों को बचाने के लिये कुछ त्याग नहीं करना, कुछ तकलीफ़ नहीं उठाना, समाज में … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

An Important Policy Change Required After Covid-19

Indian Companies and Debts: over the period, the Indian companies have become been living on high debts. It had become almost a way of running successful business. The annual interest burden of almost all companies kept on increasing. The debts … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Migrants- Problems or Solutions!

Maharashtra’s asking six states to take back 3.5 lacs migrants so late is highly irresponsible. These migrants have been part of building the economy of Maharashtra for just the minimal remunerations that they get for their hard work they do … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Covid-19 chaos-Reason, Way-outs..

Sonia, Rahul and her loyal are fighting their last war as a survived lot with very obvious things as their demands. The government is already concerned and trying to mitigate all these issues and other problems. Nitin Gadkari, one of … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Ramayan Story: Myth or History

An Excellent Article Read Last Week: Nanditha Krishna, a historian, author and environmentalist, and director of the CPR Institute of Indological Research in Chennai has published a wonderful article, ‘How Did Indian History Become Myth?’, about the historicity of Ramayana … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment