Monthly Archives: December 2016

विमुद्रीकरण पर मेरी प्रतिक्रियायें

3.12.2016 विमुद्रीकरण और काला धन: नोयडा आने के पहले कलकत्ता में मुझे केवल वहाँ के सेठों के घर अपार नगदी रूपयों के होने की जानकारी थी. मैंने मारवाड़ी वयस्क महिलाओं को अपने बैग से मुठ्ठी भर भर न्यू मार्केट में … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Where did the black money go? 

As the Revenue Secretary, Hasmukh Adhia told to media, December 6, Tuesday, ‘ the government expects the entire money in circulation in the form of currency notes of Rs 500 and Rs 1,000 which have been scrapped to come back … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

दवाई की दूकान, डाक्टर, और एक बृद्ध : मेरी ग़लती या उनकी

दवाई की दूकान, डाक्टर, और एक बृद्ध : मेरी ग़लत या उनकी (यह कहानी एक महीने पहले की है, पर कुछ बातें अभी की) कल मेरे साथ एक वाक़या हो गया जो मुझे मानसिक चिन्ता दे गया बहुत गहरा. मेरी … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

सरकार के नोटबन्दी कुछ खट्टे मीठे बिचार

28.11.2016 कैसा है यह बिरोध? क्यों है यह बिरोध? क्या संसद को इस तरह रोकना ही तरीक़ा है अपने अस्तित्व को जताने का? क्यों बिरोधी पार्टियाँ यह नहीं जानना चाहती और न इस पर बोलना चाहत हैंी? यह देश केवल … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment