Corona-19 Lockdown Related Views

Calibrated reopening of essential sectors based on red, amber and green zones required with all precautions from all stakeholders: Every unit will have to spend some times with planning engineers and related services before calling the first line workers maintaining social distancing other disciplines agreed through a signed agreement. Exporting units of Textiles and apparels, pharmaceuticals, food processing, minerals and metal, besides e-commerce, automobiles and chemicals may be that list finally decided by nonpartisan experts. Can with our experience, we list the precautions?

Why should the country depend on import from China, when Indians can innovate and produce in so little time? Let the government and other business houses in manufacturing not encourage blind importing from China that has made the innovators of the country totally discouraged lot. एक नवभारत टाइम्स के रिपोर्ट के अनुसार “भारत को जरूरत है रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट (rapid antibody test) किट की, जिसका 28 मार्च को ही चीन को ऑर्डर दिया जा चुका है। चीन ने भारत का कंसाइनमेंट अमेरिका भेज दिया और 4 डेडलाइन निकलने के बावजूद किट नहीं मिली है।” अगर समाचार ठीक है तो क्या इसे अन्य देशों से नहीं मगांया जा सकता?अपने देश में क्या बनता नहीं या उसका उत्पादन नहीं बढ़ाया जा सकता? तकलीफ़ तब होती है अपने सरकारों एवं वैज्ञानिकों के दावे पर कि हम चंद्रमा पर जा सकते हैं, टैंक बना सकते है, आणविक पावर स्टेशन और बम बना सकते हैं, पर हम टेस्ट किट नहीं बना सकते…क़रीब क़रीब सभी भारतीय उद्योगों को चीन से आयातित पुर्जोँ पर निर्भर रहना पड़ता है…कब देश के वैज्ञानिकों एवं उद्योगपतियों को भारत में सब ज़रूरी चीजों को बनाना होगा. चीन हो या अमरीका वे कभी दंगा दें सकते हैं. काश कोरो ा के अनुभव के वाद यह इम्पोर्टमैनिया ख़त्म होती….पर ऐसा लगता नहीं…यह दैवी चेतावनी है देश को की सबरियाँ अपने यहाँ भारत में बनाना ही होगा. नहीं तो हम ऐसे दग़ाबाज़ी का शिकार होते रहेंगे.
पर अच्छा ख़बर भी है इसके बारे में . अपने देश में ही टेस्टिंग कीट का बनना चालू होगया है- मीडिया रिपोर्ट है, “At the end of last month when Pune-based MyLab Discovery Solutions announced that it has got the clearance for indigenously manufacturing Covid-19 test kits. The company claimed that the kit manufactured by them will reduce the country’s import dependence for test kits and enable low-cost, real-time testing. Deepak Kumar, official spokesperson of MyLab Said: “We have already supplied the first batch of MyLab Covid-19 Qualitative PCR kits that screen and detect the infection within 2.5 hours, compared to more than seven hours taken by existing protocols.”
“When the scarcity of ventilators became the talking point across the world as Covid-19 infected patients need to have support of this life system which provides an imitating flow of natural breath, Aerobiosys Innovations, an incubated startup of Center for Healthcare Entrepreneurship (CfHE) of the Indian Institute of Technology-Hyderabad (IIT-Hyderabad), came up with a solution. Aerobiosys Innovations made a low-cost, portable emergency use ventilator called “Jeevan Lite” which has the potential to equip the country to deal with the scarcity of ventilators in hospitals across the country.
“The Internet of Things (IoT) enabled Jeevan Lite to provide a low cost (Rs 1 Lakh approximately) option of the ventilator. Jeevan Lite can be operated through through an application.”
Later, the ventilator innovation bandwagon was joined by IIT Roorkee which also developed a low-cost portable ventilator called “Prana-Vayu”. While both startups from the IIT-Hyderabad and IIT-Roorkee are waiting for the certification clearance from the authorities concerned and the clearance will decide the course of the production, another reputed institution—the Indian Institute of Science (IISc)—is ready to produce ventilators from the end of this month. The early production of ventilators by the IISc is possible due to its innovative management of components. Scientists involved in the project are working round the clock to ensure the timely production of the ventilators. T.V. Prabhakar, Principal Research Scientist at the Department of Electronic Systems Engineering (DESE), is leading the project. As per a rough estimate, the country has around 56,000 ventilators and in case of mass spread of the virus, this number will fail to save lives. Pl. read the full story and appreciate the strength of our innovators. https://www.sundayguardianlive.com/business/india-using-innovation-arsenal-fight-coronavirus

कोरोना-१९ के बाद की ज़िन्दगी- कुछ अच्छे फ़ायदे: मैं दो-तीन दिन पहले पुणे में दीपक से बात कर रहा था. वह वहीं के इंजीनियरिंग कॉलेज में अध्यापक है. उससे पता चला कि उसके कॉलेज ने आई. आई. टी मुम्बई से सम्बंध बना अपने छात्रों को ऑन लाइन क्लास चालू रखा है..उसके कॉलेज के प्रोफ़ेसर भी क्लास इसी तरह ले रहें हैं. केन्द्रीय विद्यालयों में भी ऑन लाइन शिक्षा जारी है. हमारे पड़ोसी रमित के बच्चों के स्कूल ने भी ३१ मार्च के बाद ऑन लाइन पढ़ाना चालू कर दिया है…यह देश के सभी उच्च कोटि के विद्यालयों में चल रहा होगा. कितने प्रतिशत स्कूल, कालेज आदि के विद्यार्थियों को यह सुबिधा मिल रही है मालूम नहीं. पर मीडिया को यह संम्भावना एवं उपलब्धि की जानकारी पूरे देश के कोने कोने में ले जाना चाहिये. कोरोना-१९ के बाद डिजीटल विद्यालयों एवं उनके शिक्षकों को पूरी तरह बढ़ावा देना चाहिये..सभी कोटा जैसे प्रोफेशनल विषयों के कोचिंग संस्थानों को भी यही रास्ता अपनाना चाहिये. आज के बच्चों की शिक्षा पर पूरा देश सबसे ज़्यादा खर्च करता है और उसके बाद भी शिकायत रहती है स्कूलों में होती पढ़ाई के स्तर के बारे में. डिजीटल शिक्षा द्वारा सभी को सर्वोत्तम शिक्षा व्यवस्था के साथ जोड़ा जा सकता है.आज जब देश के अधिकांश परिवारों में स्मार्ट फ़ोन उपलब्ध है, अपने देश में भी इंटरनेट का अच्छा स्तर का है. फिर इस तकनीक को हरदम शिक्षा काम लेने का तरीक़ा क्यों नहीं बनाया जा सकता. हर क्लास को दो या तीन में बाँट केवल दो या तीन दिन बच्चों को स्कूल जाना पड़े, अध्यापकों को कम बच्चों के क्लास में उन्हें समझने समझाने का मौक़ा ज़्यादा मिले.
अधिकांश आई. टी क्षेत्र में लोग घर से काम करते हैं, ध्येय यह होना है कि इसका योगदान का प्रतिशत कैसे बढ़ाया जाये..यहाँ तक कि मैनुफ़ैक्चरिंग क्षेत्र की कम्पनियों में भी बहुत डिपार्टमेंट का काम घर से डिजीटल तरीक़े से हो सकता है…इस बदलाव का देश को बहुत फ़ायदा होगा….सड़कों पर वाहनों की संख्या कम होगी…प्रदूषण कम होगा…सभी संस्थानों के ओवरहेड खर्च में कमी आयेगी.
वह बहुतों के लिये एक नई कार्य शैली ज़रूर होगी, पर छोटे परिवार में जुड़ाव भी बढ़ेगा…कोरोना-१९ या इसी तरह के भावी सम्भावनावों का यही निराकरण होगा….और आज की यातना से हम बचे रहेंगे…हम अपनी व्यवस्थाओं में कुछ नये खर्च के बदले बहुत फ़ायदे पा सकते हैं…तभी स्मार्ट गाँव या शहर का सपना सत्य होना आसान हो जायेगा….ज़िन्दगी के लिये किये जानेवाले बहुत अनर्थक कामों से मुक्ति मिलेगी….बदलाव तो ज़रूर आयेगा…कार्यस्थल और कार्य व्यवस्था के डिज़ाइन में तो ज़रूर बदलाव दिखना चाहिये, पर क्या क्या बदलाव आयेगा देखना होगा…अभी समय है निर्णय लेनेवालों को प्लान करने का.

Required a different India after getting read of Corona-19: Coomi Kapoor has given an impartial views on the political leaders like Harsbardhan, Kejriwal, Tablighi arrogance, Sharad Pawaar…The Parliament without politics must in clear terms declare a war against all the Indian citizens who don’t abide by the healthy peaceful living of our society. The responsibility dictated in constitution must be equally or more religiously and forcefully followed by all Indians rather than their rights to make the nation great. Honesty must be practised by every one from the poorest to the richest. Dishonest and anti-national activities activities must get penalised heavily with exemplary punishment. Bad habits like spitting and creating nuisance in the public places must not be socially permitted. Nonsense makers must not be tolerated by the society for any reason. The good performing politicians must be differentiate with those with vested personal interests. Media must adore those trying to make everything in India. The states must try to be self sufficient for daily needs like food, vegetable, fruits, etc. Why should all state depend on other states for essential food items, when our Mother Earth is so good to all the things almost in every part of the country? The must be made more responsible for providing jobs to their grassroots level. How could Bihar or some other states remain satisfied by just proving the menial labour to the whole country. Why the education and health sector of all the states must not be equal to the all India standard? How long the states live on excuses? Media must help the government to take right decision and must stop giving negative news or views just for TRP and earning huge salaries. Strangely, none of the media baron came up as donors for the PM Care Fund. Their all actions are with self survival…with loud mouth. The country must change for better with rethinking about our priorities. Every state must go digital…fast. All shanties must be replaced by the clustered cheap housing facilities with all services available.

How Germany kept Corona under control? If Germany can do, I am sure Indian big industrials plants can also keep running with certain workplace design by building in social distancing in its operations. Naturally our industrial managers will have to adopt ways and means to do it fast with our crude juggads that India is best at. I have been writing on the subject. However, the mission is not a great discovery. Our plants have been adaptable. Our technocrats can still do. Let the plant owner / managers take the responsibility, convince the authority about their action plan and get clearance to safely start their plants. https://economictimes.indiatimes.com/news/international/world-news/a-german-exception-why-the-countrys-coronavirus-death-rate-is-low/articleshow/74989886.cms( This is a report from The New York Times).

कोरोना की लड़ाई और सबका दायित्व
हम अपनी ज़िन्दगी (मेरी उम्र ८० साल) और शायद लिखित इतिहास के सबसे बड़े संकट से गुजर रहे हैं. कोई यह नहीं जानता कि कोरोना वॉयरस जनित सारे विश्व को चपेट में ले लेनेवाली महामारी का सठीक कारण क्या रहा है? केवल अनुमान लगाये जा रहे हैं? क्या यह किसी देश का पूरी दुनिया में वर्चस्व की लालसा में आणविक अस्त्रों के तरह के किसी अधपके प्रयोग की विफलता से हुआ या किसी अन्य अनजानी प्राकृतिक कारणों से? पूरे विश्व के वैज्ञानिक अलग अलग इससे बचाव के लिये सठीक दवाइयों की खोज में लगे हैं. इसे बचने या रोकने की टीके की खोज की जा रही है पूरी शक्ति के साथ सब उन्नत एवं सक्षम देशों में सभी संधान का उपयोग किया जा रहा है.दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति बिल गेटस् ने एक बहुत बड़ी राशि, शायद १०-१४ विलियन अमरीकी डालर देने का एलान किया है. अमरीका की सभी लैब में काम चल रहा है….भारत के वैज्ञानिक भी जी जान से जुटे हैं. दुनिया के सभी अन्य अग्रणी देशों के वैज्ञानिक इसमें जुटे हैं. पर पता नहीं कि उनमें अनवरत आपसी सम्पर्क एवं सलाह चल रहा है या नहीं? क्या इस महत् कार्य को किसी देश, कम्पनी या व्यक्ति के पेटेंट कराने की होड़ से बाहर नहीं रखा जा सकता? काश! यह दुनिया के सभी देशों के बड़े वैज्ञानिकों का नि:स्वार्थ सामूहिक प्रयत्न होता, दुनिया को बचाने की. ‘रोग के पहले ही दिये जाने सुरक्षात्मक वैक्सीन चाहिये और संक्रमित व्यक्ति के लिये अचूक और शीघ्र से शीघ्र स्वस्थ होने की दवाई चाहिये. साथ ही अब तक के ज्ञात उपायों द्वारा सभी बीमार या आशंका वाले असंख्य रोगियों को बचाने का प्रयास भी पर्याप्त मात्रा में चलना चाहिये. फिर आज की ज़रूरी दवाइयों के साथ, सफल नई खोज की गई दवाइयों को बड़ी मात्राओं में यथाशीघ्र उपलब्ध कराईं जा सके इसकी उत्पादन व्यवस्था होनी चाहिये.अन्य आवश्यक इलाज के लिये ज़रूरी चीजों एवं प्रशिक्षित मानवशक्ति की ज़रूरत भी पूरी होती रहनी चाहिये. पूरे विश्व को एक होने की ज़रूरत है.हर देश के नेतृत्व और उनके वैज्ञानिकों को मनुष्य जाति को बचाने के लिये एक होना ही होगा…कोई दूसरा रास्ता…नहीं है.
हम सभी जो और कुछ नहीं कर सकते अपने विचारों को सकारात्मक रखें.हम जिसे दुनिया की सर्व शक्तिमान परमात्मा समझते हैं उससे इस महामारी से सभी को बचाने के लिये बराबर प्रार्थना करते रहें, सभी जानकारों के बताए नियमों एवं सलाहों का पालन करें, एक दूसरे की सहायता करें, यथाशक्ति तकलीफ़ सहने की कोशिश करें. अपने कर्तव्यों को निभाये, अधिकारों को ताक पर रख दें….हमारे हर कार्य यथाशक्ति कमजोरों की सहायता के लिये हों…पर कमजोर वर्ग भी इसका नजायज़ फ़ायदा न उठाये…और एक बहुत ज़रूरी आख़िरी सलाह है कि हमारे सभी संतान युक्त लोग- विशेषकर जिनकी कामना की कमजोरी है…ब्रह्मचर्य का पालन करे लॉकडाउन में. अपने पैसे को शराब या नशाखोरी में न गंवांयें. यह न हो कि लॉक डाउन एक बड़े “बेबी बूम” का कारण बने…क्योंकि हम आज १४० करोड़ पहुँच चुके हैं…दुनिया के सबसे बड़ी जनसंख्यावाले…कृपया कोई इसका अगर इंग्लिश या अन्य भाषा में अनुवाद कर दे.

A great news: DRDO creates full body disinfection chamber and full face mask. “It comes with a roof mounted and bottom tanks and has a capacity of 700 litres and around 650 personnel can walk through before the next refill… Using their scientific endeavours to develop products faster, the DRDO labs are now working with industry partners for bulk production. With the help of M/s D H Ltd, Ghaziabad, in a short time of around four days, one of the labs of DRDO, Vehicle Research Development Establishment (VRDE), Ahmednagar, has designed full body disinfection chamber called as PSE.” From FE

And some more from Gujarat https://www.financialexpress.com/lifestyle/health/covid-19-gujarat-firm-makes-low-cost-ventilators-in-10-days/1919297/

This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s