इस दीप पर्व पर

आओ चुनौती दें फैलते अंधेरों को
असली ज्ञान दीपों को जला
लाखों करोड़ों में ।
अपने स्वेदों के स्‍नेह से
भरे रखें हरपल उनको ।
केवल अथक साधना, प्रयास
बुद्धि, और शक्ति देगी
असंख्य आसुरी
रावणी शक्ति पर बिजय ।
पर रहे याद हमें
बिजय के बाद की
कहानी सदा
उससे भी जरूरी
रहा लोभ का त्याग
सबका, चाहे राम
या साधारण बानर ।
न लिया दिब्य रथ,
न रत्न, स्वर्ण, आभूषण ।
और तभी जल सकी
कोशल में दीप माल्य
और आया राम राज्य ।

शुभ हो दीपावली

This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s