Tag Archives: Hindi poetry

लन्दन से आती आवाज

है लगी आज सबकी नजरें लन्दन की ओर | है आज जमाना, ब्यक्ति, देश है ब्यस्त, लगा है लिखने में इतिहास नया | मानव पौरुष का, कीर्तिमान से आगे बढ़ जाने का | भारत डूबा पर अंधकार का बोझ लिए, … Continue reading

Posted in social issues | Tagged , | Leave a comment